देवर की बीएफ सेक्सी

Image source,हिन्दी सेक्स विडीओ

तस्वीर का शीर्षक ,

कुंवारी सेक्सी कहानी: देवर की बीएफ सेक्सी, मैंने उसी अवस्था में झुक कर उनके माथे को चूमा और उनकी आँखों में आनन्द की झलक देखने लगा।एकाएक माया ने अपने हाथों से मेरे सर को झुका कर मेरे होंठों को अपने होंठों से लगा कर रसपान करने लगी। जिसका मैंने भी मुँहतोड़ जवाब देते हुए करीब 15 मिनट तक गहरी चुम्मी ली।जैसे हम जन्मों के प्यासे.

इंडियन स्कूल गर्ल सेक्स वीडियो

कुछ सूझ ही नहीं रहा था।ऐसे ही कुछ एक साल गुजर गया और मेरी स्थिति की तो बात ही मत करो यार एक अजीब सी भूखी. राजस्थानी लड़कियों की सेक्सी वीडियोतुम्हें प्यार से दबा-दबा कर मारने का इरादा है।वो बोली- मुझे इस घड़ी का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा।अपने सुझाव देने के लिए मेरे ईमेल पर संपर्क करें !कहानी जारी रहेगी।[emailprotected].

फिर मैं रसोई में गया और उसके और अपने लिए एक अच्छी सी अदरक वाली चाय बना ली और हम दोनों ने साथ-साथ चाय की चुस्कियों का आनन्द लिया।कुछ देर में हम दोनों की थकान मिट गई और उस रात हमने कई बार चुदाई की. नई दुल्हन की सेक्ससलीम सोफे पर जाकर बैठ गया।आनन्द मेरे पास आया और मेरे दोनों मम्मों पर हाथ रख के बोला- क्या मस्त बॉल हैं.

तो मैं उसे ऐसे उठाए हुए ही गुसलखाने में लेगया और शावर चालू करके नीचे खड़ा हो गया।कामिनी बोली- तुम्हें पता है कि मेरा वज़न 70 किलो है और तुम मुझे ऐसे उठा कर घूम रहे हो।तो मैं बोला- जब दिमाग में मस्ती होती है तो वज़न का पता नहीं चलता।वो बोली- कोई बात नहीं.देवर की बीएफ सेक्सी: मेरी चूत से वीर्य निकलते हुए मेरी गाण्ड तक पहुँच रहा था।मैं लम्बी-लम्बी साँसें लेते हुए पड़ी रही। चूत से वीर्य निकलते हुए मेरी गाण्ड तक पहुँच रहा था।मैं तो इतनी थक गई थी कि सोफे पर ही पड़ी रही।मुझे होश तब आया, जब सुरेश जी ने मुझे हिला कर बोला- नेहा.

उस समय आपके मन में क्या था? सच बताना।सुधीर- अरे मैं झूठ क्यों बोलूँगा… सुनो उस वक्त मैंने सोचा कि तुम नादान लड़की हो इसलिए ऐसे बीच रास्ते में चूत खुजा रही हो.फिल्म की हिरोइन भी क्या उसके सामने टिकेंगी।मैं अचंभित सा कामुक दृष्टि से उसे ठगा सा ही देखता रहा और कब मेरा लंड तन कर खड़ा हो गया… मुझे खुद ही पता ना चला।‘जरा पीछे तो मुड़ो…’ मैंने अपना थूक अन्दर घुटकते हुए कहा।वो मुड़ी।‘आआह्ह व्वाअह्ह ह्ह्ह.

पाप की दुनिया फिल्म - देवर की बीएफ सेक्सी

बस मुठ मारना सीख गया था। मैं मुठ मारने में ही खुश था।डिप्लोमा करने के बाद मैं जॉब की तलाश में दिल्ली आ गया और यहाँ आने के बाद मेरी जिंदगी में बदलाव आने शुरू हो गए। जिंदगी में पहली बार घरवालों से दूर रहकर काम कर रहा था और वयस्क होने के बाद भी सेक्स के मामले में मेरी समझ किसी छोटे बालक के जैसी ही थी।इसी समय मेरी जिंदगी में वो आई.मेरा लंड भी खड़ा होने लगा है।मैंने उसकी तरफ नशीली मुस्कान बिखेरी और होंठ चबाते हुए होंठों पर जुबान फेरते हुए आँखों से उसको भी बुला लिया।उसने पजामा उतार कर अंडरवियर उतार दिया।हाय.

इसीलिए आज तक वो मेरे साथ है।एक बार जब हम होटल में जा रहे थे तब उसकी एक सहेली ने हमको देख लिया।हमको पता नहीं था.देवर की बीएफ सेक्सी लड़कियाँ बड़ी हैं और लड़के छोटे हैं।वहाँ कुछ वक्त बाद एक लड़का आया और वो मेरे मामा के परिवार के लोगों से बातें करने लगा।मुझे बाद में पता चला कि वो मेरी मौसी का लड़का है.

मुझे नंगा देख कर वो पागल हो गया और मेरे पूरे बदन को चूसने लगा।वो अपने साथ एक बैग लाया था… उसने मुझे वो बैग थमा कर बोला- जा बैग में से कपड़े निकाल ले और उन्हें पहन कर आ…उस बैग में एक लाल ब्रा.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो हिंदी एचडी?

देवर की बीएफ सेक्सी मैं काफ़ी गर्म हो चुकी थी, मेरी आँखें बंद हुई जा रही थी और मुझे लगा कि मैं अपने झड़ने के काफ़ी करीब हूँ.

हिंदी हीरोइन की सेक्सी?गुजराती भाभी सेक्सी बीपी

देवर की बीएफ सेक्सी हाँ अगर वो खुद से राज़ी हो और तुम्हें कोई दिक्कत ना हो तब मैं उसे जरूर चोदना चाहूँगा।विकास की बात सुनकर अनुजा के होंठों पर एक क़ातिल मुस्कान आ गई।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अनुजा- ये हुई ना बात.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो गाने

!मामी गालियाँ देती रहीं और मैं चुपचाप आकर अपने कमरे में सो गया और सोचने लगा कि किस तरह मैं मामी को चोदूँ।सुबह हो गई और मामा-मामी दोनों ऑफिस चले गए.उसकी आँखों में नशा सा छाने लगा।मैंने उसका हाथ छोड़ दिया वो और गरम होने लगी और मेरा भी लंड उसकी जवानी को सलामी देने लगा।उसके हाथ फिर से.

देवर की बीएफ सेक्सी मैं तुमको पता मैसेज करती हूँ।मैंने कहा- तुमने सबको कैसे मना लिया कि तुम नहीं जा रही?उसने कहा- मेरी तबीयत ठीक नहीं है मैंने यही बहाना बना दिया.

सेक्सी फिल्म फुल सेक्सी

सेक्सी मूवी जानवर वालाचल जल्दी आ…प्रिया ने मौके की नज़ाकत को समझा और जल्दी से नीचे बैठ कर उसके लौड़ा को मुँह में भर लिया और चूसने लगी।दीपक- आह्ह.

’लौड़े ने चूत को चीर दिया और उस रसभरी नदी में डुबकियाँ लगाना चालू कर दीं।उसकी तरफ से भी पूरी मस्ती से जबाव मिल रहा था। मेरे होंठ उसके चूचकों को चूसते जा रहे थे और वो निरंतर सीत्कार करती हुई अपनी चूत को ऊपर उठा कर चुदाए जा रही थी।करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद वो अकड़ गई और ‘आह्ह.मैंने साक्षी का हाथ अपने लण्ड पर रख दिया।साक्षी जोर-जोर से मेरा लण्ड मसलने लगी।मैं साक्षी की चूचियों को उसके कुर्ते से बाहर निकालने की कोशिश करने लगा, लेकिन कुर्ते का गला छोटा था और चूचियाँ बड़ी थीं।मैं कुछ ज्यादा ही क्रूर हो चला था.

मैं उसकी चूत में पूरी जीभ डाल कर चाट रहा था और उसकी गान्ड में एक ऊँगली डाल कर उसे चोद रहा था।अब आप ही सोचो क्या सुकून मिला होगा उसको…मेरा लंड भी अपने राक्षसी आकार में आता जा रहा था और उसी वक्त मानसी ने मेरा अंडरवियर भी निकाल दिया।मानसी की चूत का स्वाद कुछ अलग ही था।नमकीन पानी.

फिर राज ने पूरा लंड रश्मि की गाण्ड में डाल दिया और चोदने लगा।इधर मैंने भी सोनिया की गाण्ड मारना चालू कर दी और दोनों फिर से चुदाई करने लगे।हम चारों पसीना-पसीना हो रहे थे और इन दोनों छिनालों के मुँह से कामुक सिसकारियाँ निकल रही थीं।मेरी बीवी चिल्ला रही थी- अरे मेरे प्यारे राज काश.

पर समझा नहीं पाया।इस तरह उससे बात करते-करते रात के 3 बज गए और फिर हम दोनों सो गए।सुबह मेरी नींद खुली तो मैंने सबसे पहले उसको फ़ोन किया और गुड मॉर्निंग की. तो इस पर मीतू ने मेरा लंड पकड़ के अन्दर घुसेड़ने में मेरी मदद कर दी।जैसे ही मैंने थोड़ा ज़ोर लगाया कि उसके मुँह पर थोड़ी दर्द की लकीरें साफ दिखाई देने लगीं।थोड़ा और ज़ोर लगाने पर उसके मुँह से दर्द की ‘आहह.

छक्के का सेक्सी वीडियो तो बस इन कामों में वो बहुत बिज़ी रहते हैं, रात को देर से घर आते हैं कई बार तो रात को आते ही नहीं हैं।दीपाली की शिकायत होती है कि कई-कई दिनों तक वो पापा से बात भी नहीं कर पाती और उसकी माँ सुशीला एक सीधी-साधी घरेलू औरत हैं घर-परिवार में बिज़ी रहती हैं। एक ही बेटी होने के कारण दीपाली को कोई कुछ नहीं कहता है।सुशीला- बेटी तूने कपड़े क्यों बदल लिए.

राजधानी का नाइट का चार्ट

देवर की बीएफ सेक्सी: जान से भी ज़्यादा उन्हेंप्यार किया करते थे!!पागलों की तरह उन्हेंयाद किया करते थे!!अब तो उन राहों से भी नहीं गुजरा जाता.वहाँ बड़ों की बातें सुनकर मुझे यह पता चला कि मामी का अजमेर में ऑफिस के किसी आदमी के साथ सम्बन्ध स्थापित हो गया था.