गांव की आंटी की बीएफ

Image source,कुमारी दुल्हन का बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी मूवी फुल पिक्चर: गांव की आंटी की बीएफ, चूत चुदाई के शौक से मेरे काल गर्ल बनने की सेक्सी कहानी-1होटेल बहुत बड़ा था, मैं रिसेप्शन पर गई, रूम नंबर 418 बताया, रिसेप्शन की लड़की ने मुस्कुराते हुए मुझे रूम तक जाने का रास्ता बताया.

ट्रेन वाली बीएफ

पर मेरा कामुक मन नहीं मान रहा था, फिर भी मन को समझा कर मैंने देखना बंद कर दिया।कुछ समय बाद आवाज़ आई- उह उह. भोजपुरी गाने के साथ बीएफअब तो तेरा अधिकार है मेरी चूत में अपना लंड घुसा कर मेरी चूत मारने का!’ उसने अपना हाथ पीछे लेजा कर कच्छे में खड़ा लंड पकड़ लिया। मस्त खड़ा लंड उसके चूतड़ों के नीचे घुस रहा था।माला ने उसका हाथ अपनी चूची पर दबा दिया। यह इशारा था की उसको भी इस खेल में मजा आ रहा था।‘क्या भाभी तू कैसी बात करती है, मैं यह कैसे कर सकता हूँ? अगर तुझे पसंद नहीं है, मजा नहीं आता, तुझे भी तो मजा आना चाहिए.

एक तरफ तो डर लग रहा था ओर दूसरी हवस भी बढ़ रही थी।वहाँ मुझसे जूनियर भी सो रहे थे। आपको तो पता ही है कि जूनियर कितने सेक्सी होते हैं।मुझे उनमें से एक पसंद आ गया ओर मैं उसके साथ जाकर लेट गया। धीरे-धीरे मैंने उसकी पेंट को उतार दिया. साउथ हीरोइन सेक्सी वीडियो बीएफइसलिए मैंने उसकी तरफ ज्यादा ध्यान नहीं दिया।मैं यह बता दूँ कि उससे मेरी खूब पटती है.

मेरा दिल कर रहा था कि साली को अभी ही पकड़ लूँ, पर मैंने अपने आपको रोके रखा।फिर वो मेरी साइड गांड करके लेट गई। शायद वो इंतजार कर रही थी कि कब मैं कुछ करूँ, पर मैंने खुद को रोके रखा।मुझे पता था कि ये पक्का कुछ बोलेगी, वही हुआ, उसने कहा- यार मेरे पैर दर्द हो रहे हैं.गांव की आंटी की बीएफ: ऐसे समझाओ और देख ये प्यार-व्यार करना ये मेरे बस की बात नहीं है, ये तुझे पता ही है। मैं खुद पुणे से मुंबई सिर्फ रिलेक्स होने आता हूँ.

धीरे से पेलने में लंड अन्दर जा ही नहीं रहा था।मैंने सुपारा फंसा कर थोड़ा जोर लगाया ही था कि वो कहने लगी- ऊ.उस दिन मैंने लाल रंग का एक वन पीस ड्रेस पहन रखा था जो मेरे घुटनों तक लंबा था और उसमें मेरे गोरे पैर सबको दिखते थे, मैंने गले में एक नेकलेस पहन रखा था जो मेरे ड्रेस के साथ अच्छा लग रहा था और कानों में इयरिंग्स पहनी हुई थी.

चूत को चोदने वाली बीएफ - गांव की आंटी की बीएफ

5-6 धक्के देने के बाद मैं झरने वाला था तो मैंने प्रतिभा से कहा- अंदर ही छोड़ दूँ या बाहर निकालूं?तो वो बोली- अंदर नहीं… बाहर गिरा दो!तो मैंने जोर से धक्का दिया, फिर लौड़ा बाहर करके प्रतिभा के बुर पे सारा माल गिरा दिया।उसने मुझसे रूमाल माँगा और अपनी बुर साफ की.उसके बाद मैंने उसकी बहुत सहेलियों को चोदा, अब मेरी बहुत सी कस्टमर हैं, पर मैं अब उसको महीने में एक ही बार चोदता हूँ.

अब दूसरे राउंड में मज़ा आ रहा था चुदाई का और उसको मेरे ऊपर आकर चुदने को कहा।यह देसी चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसको अपने लौड़े पर झूला झुलाते हुए और चोदा और अब वो बहुत मस्त हो चुकी थी और चुदाई का मज़ा ले रही थी।उसके चूचे जोर जोर से हिल रहे थे, मैंने उसके चूचे खूब मसले जिससे उसकी चूत बार बार रस बहा रही थी।उसको चोदते चोदते पता ही नहीं चला.गांव की आंटी की बीएफ तो हमारा डर खत्म हो गया। अब तो हम दोनों उनके सामने भी फ़ोन पर बात करने लगे।एक दिन उसकी मम्मी ने मुझे घर नाश्ते पर बुलाया और मैं सहज भाव से उनके घर पहुँच गया। मैं उसकी मम्मी को आंटी कहता था।मेरीगर्लफ्रेंड प्रिया और मैं नाश्ता करने लगे, उसकी मम्मी नहाने चली गईं।दोस्तो, उस समय तक उसकी मम्मी के बारे में मुझे कोई गलत ख्याल नहीं था, पर जब वो हमारे सामने नहा कर आईं और मुझे पानी देने के लिए नीचे झुकीं.

वो जीभ लगाने से ही झड़ चुकी थी। फिर मैं उसके ऊपर सीधा लेट कर लंड घुसेड़ने की तैयारी करने लगा।उसकी चुत बहुत टाइट थी.

मोतिहारी के बीएफ?

गांव की आंटी की बीएफ वो शर्मा गई और मुझसे नज़रें नहीं मिला पा रही थी।फिर वो नीचे ही सो गई.

बीएफ सेक्सी वीडियो सील तोड़ने वाला?ब्लू बीएफ वीडियो दिखाइए

गांव की आंटी की बीएफ खाने के बाद हम होटल से बाहर आए और आइसक्रीम खाने आ गए।मैंने अंजलि से कहा- देखो 10.

बीएफ सेक्स कॉमेडी

तो आज उसने डीप कट वाला कुर्ता और सलवार पहना हुआ था। शाम को जब खाना ख़त्म होने के बाद वो झाड़ू लगाने लगी तो उसके डीप कट वाले कुर्ते में से मुझे उसके आधे चूचे दिखने लगे.तीन बार ऐसे हुआ तो मुझे गुस्सा आ गया।मैंने फिर से बुर के मुख पे अपना लौड़ा रखा और दबाया, थोड़ा सा लौड़ा उसकी बुर के अंदर गया तो वो चिल्लाई और मुझे हटाने की कोशिश करने लगी लेकिन मैं उससे चिपका रहा.

गांव की आंटी की बीएफ मैं उनके सामने खड़ा हो गया। उन्होंने अपनी चुची ढक लीं और पीछे घूम गईं, मुझसे बोलीं- आप बाहर जाइए।मैं बोला- चाची.

हिंदी रंडी की बीएफ

सेक्सी बीएफ एचडी कार्टूनफिर मैंने उनकी साड़ी को ऊपर किया और पैंटी नीचे कर दी। उनकी चुत में बाल थे लेकिन शायद उन्होंने हाल में ही शेव की थी।मैंने उनको घास में लेटा दिया और उनके ब्लाउज का बटन खोल कर उनके बड़े-बड़े चूचों को पागलों की तरह चूसने लगा। उनके निप्पल काफ़ी बड़े थे और काफ़ी सेक्सी भी थे। उन्हें चूसते-चूसते ही मैंने अपना लंड उनकी चुत में डालने की कोशिश की.

फिर मैंने अपना लन पकड़ा और उसकी फुदी के ऊपर रख कर थोड़ा ज़ोर डाला तो कुछ हिस्सा अंदर चला गया.यूँ अचानक लंड को उस अवस्था में छोड़े जाने की वजह से मैं लगभग चौंक सा गया था और अपनी आँखें खोलकर वंदु की तरफ़ यूँ देखने लगा मानो मैं उससे पूछ रहा होऊँ कि लंड को इतना तड़पा कर यूँ छोड़ क्यूँ दिया!हमारी नज़रें मिलीं और वंदु ने अपने चेहरे पर उत्तेजना से भरे भाव के साथ मुस्कुराते हुए मेरी आँखों में देखा जो उससे बिना कुछ कहे सवाल किए जा रही थीं.

आप कितना चार्ज करते हैं?मैंने उनको बताया- मैं एक कस्टमर से 3000 लेता हूँ।तो उन्होंने बोला- ठीक है.

आप कितने केयरिंग हो।बस मैंने उसे तुरंत कार रोकी और उसे हग किया और बोला- प्लीज तुम मेरी दोस्त बन जाओ.

तो उसने मेरा फ़ोन काट दिया।मेरी तो गांड फट गई… मुझे लगा कि शायद मेरे लंड के नसीब में मुठ ही मारना लिखा है।लेकिन अचानक से उसका कॉल आया और उसने भी मुझे ‘लव यू टू’ बोल दिया। इसके बाद से तो हम दोनों खूब मस्ती करते. तो उन्होंने बताया कि वो 12वीं क्लास में स्मोक किया करती थीं।अब मैं तपाक से बोल उठा- तो आज भी मेरे साथ पी लो।उन्होंने बोला- हाँ जलाओ।मैंने फटाक से सिगरेट जलाई और पीना स्टार्ट कर दिया।कुछ देर बाद वो बोलीं- क्या अकेले ही पीओगे?तो मैंने उनकी तरफ सिगरेट को बढ़ा दी भाभी ने सिगरेट मुँह से लगाई और पहला कश खींचते ही वो खांस दीं।मुझे पता चल गया कि वो झूठ बोल रही थीं.

सेक्सी बीएफ वाली फोटो अब मेरी बारी थी, मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और मैं उसके ऊपर आकर उसके होंठों को चूमने लगा और मेरे लंड को फिर से डाल दिया उसकी चूत में… मेरा लंड मेरी बहन की चूत में खूब मजे से आ जा रहा था.

अंग्रेजी बीएफ वीडियो हिंदी

गांव की आंटी की बीएफ: प्रिया मैडम घर पर ट्यूशन पढ़ाती थी, वहां पढ़ने करीब 12-15 लड़के, लड़कियाँ आते थे.मेरी आँखों से आँसू की मोटी धार बह निकली, मैंने ऐसे ही रोते हुए उसकी चिट्ठी व्याकुलता के साथ खोली, मुझे अक्षर धुंधले नजर आ रहे थे क्योंकि आंसुओं की वजह से मुझे साफ नजर नहीं आ रहा था, फिर भी मैं पढ़ने की कोशिश करने लगी.