बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए

Image source,सेक्सी पिक्चर देखने वाला

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश पिक्चर ब्लू बीएफ: बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए, वो जाते जाते बोली- तुम बहुत अच्छी बातें करते हो, अब तुमसे कल बात होगी !मुझे ऐसा लगा कि मेरा तो दिल वहीं निकल कर गिर पड़ेगा क्यूंकि इतनी तेज़ी से धड़क रहा था वो… अब तो मेरी चांदी ही चांदी थी.

चुदाई कथा

मैं बुआ के पास गया, वहाँ मम्मी और आंटी भी बैठी हुई थीं, मैंने बुआ से कहा- मुझे जोरों की नींद आ रही है. सेक्स वीडियो हद हिंदी’‘अब 6 महीने तक इस खूबसूरत चूत की प्यास कैसे बुझाओगी?’‘आपके इस मोटे लंड के सपने ले कर ही रातें गुजारूँगी।’‘मेरी जान, तुम्हें चुदवाने में सचमुच बहुत मज़ा आता है?’‘हाँ.

वरना सुहागरात को लड़की को बहुत तकलीफ़ होती है। तेरे भैया तो बिल्कुल अनाड़ी थे।’‘भाभी, भैया अनाड़ी थे क्योंकि उन्हें बताने वाला कोई नहीं था। मुझे तो आप समझा सकती हैं लेकिन आपके रहते हुए भी मैं अब तक अनाड़ी हूँ। तभी तो ऐसी फिल्म देखनी पड़ती हैं और उसके बाद भी बहुत सी बातें समझ नहीं आती। खैर. घर बनाने वाला कार्टून। कितने बजे आऊँ तुम्हारे पास?मैंने मस्ती के मूड में कहा- सुबह 4 बजे आ जाना!तो उसने कहा- ज्यादा मस्ती में मत आओ, मैं 4 बजे ही पहुँच जाउँगी।मैंने ऐसे ही कहा- यह हो ही नहीं सकता!वो कुछ नहीं बोली, मैंने समझा कि नाराज हो गई।लेकिन उसने कहा- छोड़ो यह बात!मैं मुस्कुरा दिया।फिर धीरे से बोली- अभी सीधे मेडिकल स्टोर जाकर कंडोम और आईपिल खरीद लेना।मैंने कहा- कितने कंडोम लूँ.

आप को सर जी ने अन्दर बुलाया है।मैं उठी और उसी केबिन की तरफ चल दी और केबिन के दरवाजे पर दस्तक दी, अन्दर से ‘कम इन’ की आवाज आई और मैंने दरवाजे खोला।मैं देखती रह गई, सामने एक बहुत ही जवान और आकर्षक युवक बैठा था।वो एकदम गोरा स्मार्ट था, उसे देख मेरी गरम चूत में पानी आ गया और मैं भूल गई कि वो भी मुझे देख रहा है।तभी वो आदमी बोला- आइए नेहा जी.बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए: बहुतेरी बार रगड़म रगड़ाई और ठरक के मजे से रीटा की भी आँखें मुंद सी जाती थी और सिसकारियाँ भी निकल जाती थी.

भाभी अपनी चूत की चुदाई पहले ही उंगली से कर चुकी थीं, इसलिए उनकी चूत से काम रस बह रहा था जिसे मैं बड़े मज़े से चाटे जा रहा था.यूँ तो मैंने कई बार हस्तमैथुन किया था लेकिन उसके हाथों का स्पर्श पाते ही मुझे लगा कि कहीं मेरा वीर्यपात न हो जाए.

रावण के नाना का नाम क्या था - बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए

और मैं यहाँ यह भी स्पष्ट बता दूँ कि बहुत उसे चोदने की भी ख्वाहिश रखते थे और उन्होंने अपनी खुद की कद-काठी का भी उल्लेख किया तो किया साथ ही साथ अपने लण्ड के बारे में भी विस्तार से बताया कि मेरा लण्ड 9 इंच का है, मूसल जैसा मोटा है इत्यादि.मैंने देखा कि टीवी के पास में प्ले-स्टेशन (विडियो गेम) रखा हुआ था, तो मैंने उससे पूछ लिया- मोनू तुम्हें गेम्स पसंद हैं क्या?मोनू- हाँ… मुझे विडियो गेम्स खेलना बहुत अच्छा लगता है, क्या आप खेलेंगे मेरे साथ?मैं- नहीं मोनू, मैं तो बस यूँ ही पूछ रहा था.

वो रो रही थी। जब मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला तो उस पर खून लगा था, उसकी सील टूट चुकी थी।मैंने अब उसे चूमना शुरू कर दिया, थोड़ी देर बाद उसके आंसू रुक गए, मैंने फिर अपना लंड धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। अब वो भी मेरा साथ दे रही थी।अब मेरा झड़ने वाला था, मैंने उसको बोला- मेरा निकलने वाला है।वो बोली- प्लीज.बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए मज़ा आएगा…मेरी बात सुनकर पापा हँसने लगे और मेरे ऊपर आ गए, मेरे होंठ चूसने लगे।मैं भी उनका साथ देने लगी.

मेरा नाम श्लोक है, मैं अहमदाबाद में रहता हूँ। मैं एक कॉल बॉय हूँ, मुझे सेक्स बहुत पसंद है, मैं बहुत गंदा सेक्स करता हूँ…लड़की को देख कर ही मुझे क्या नशा हो जाता है, मेरा हर तरह की लड़कियों से पाला पड़ा है।किसी को 8 इंच का लण्ड चाहिए तो किसी को 10 इंच का.

फटी हुई जींस?

बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए बस ‘हँस’ दी।आप से उम्मीद करती हूँ कि आपको मेरी कहानी अच्छी लग रही होगी।यह मेरे जीवन की सच्ची कहानी है और अभी भी मेरे जीवन की धारा बह रही है, मैं आपसे बार-बार मुखातिब होती रहूँगी।आपके प्यार से भरे ईमेल के इन्तजार में मैं आपकी नेहा रानी।.

गे सेक्स ब्वॉय?नागपुरी बीएफ सेक्सी

बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए मेरी बात सुनते ही वो जोर-जोर से धक्के देने लगे और मैं ‘नहीं-नहीं’ करने लगी, मुझसे जब बर्दास्त नहीं हुआ तो मैंने उसने माफ़ी माँगना शुरू कर दिया और वो धीरे-धीरे सम्भोग करने लगे.

परियों वाली शायरी

!तो राहुल बोला- आज तेरी चूत और जवानी का मज़ा लूँगा साली, साली कुतिया, चुद… चुद यहीं पे चुदक्कड़ रांड चुद, ले इसे लौड़े को अपने अंदर.पूजा कमरे से बाहर निकली और उसके दरवाज़ा बंद करते ही मैं जल्दी से उठा और अपने खड़े लंड को मुश्किल से अंदर डाला, तभी पूजा ने झटके से दरवाज़ा खोलकर कहा कि पानी मटके का पियोगे या फ़्रिज का.

बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए उम्म’ मैं सिर्फ़ चुदाई के दर्द को बयान कर रही थी।ऐसा बड़ा लंड अपनी चूत में कोहराम मचा रहा था, मेरे आनन्द की कोई सीमा नहीं थी, मैं मस्त हो कर अब उसका साथ दे रही थी। करीब 5-6 मिनट ऐसा चलता रहा।फिर ‘आआअहह.

कल्याण सेक्स

वीडियो फिल्म सेक्सी वीडियोफ़िर मैंने अपने होंठ उसके एक कान पर रखे और जीभ थोड़ी सी बाहर निकाल कर उसके कान के सुराख में घुमाने लगा, उसके मुँह से तो बस सिसकारियाँ निकल रही थी और लम्बी-लम्बी साँसें ले रही थी, उसके दोनों हाथ अपने आप मेरे सिर पर आ चुके थे.

इसके पिता के देहांत के बाद घर की आर्थिक स्थिति बिगड़ गई और मेरे पिता जी ने इसकी जिम्मेदारी स्वयं पर ली है, इसकी पढ़ाई से लेकर विवाह तक अब वो हमारे ही घर में रहेगी।यह सुन कर मेरी आँखों में चमक सी आ गई.पर यह इतना आसान नहीं था, ये मेरे पुरुष मित्र भली भांती समझ सकते हैं कि खड़े लंड से पेशाब करना कितना मुश्किल होता है.

मैं वैसा कर सकता हूँ।वो सिसकारियाँ भरती हुई बोली- मेरे राजा मेरी चूत को चाट-चाट कर लाल कर दो।मैंने अपना मुँह उसकी चूत में लगाया और पैन्टी के ऊपर से ही उसे मुँह में भरने की कोशिश करने लगा।वो तड़प उठी और नशीली सी आवाज में बोली- ओह.

नेहा तो नहीं जा रही है, बोल रही है कि अगर कोई दिक्कत ना हो तो आपे ऑफिस में रह जाऊँ?सुरेश जी बोले- नेहा आप कहीं भी रह सकती हो.

मैं दीदी की पहेलियों को समझ रहा था और मुझे पता था कि दीदी आज खुश क्यों है, रात उसकी मस्त चुदाई जो हुई है. भाभी- अपना काम करो!मैं- अभी तो एक जगह और बची है उसे भी फाड़ना है… सबसे सेक्सी तो वो ही है तुम्हारे पास!भाभी- क्या?मैंने भाभी के चूतड़ों पर हाथ लगाया और उनकी गांड के छेद में उंगली डाल कर बोला- ये वाली फाड़नी है।भाभी- आआह्ह हह नहीं वो नहीइ.

बंगाली ओपन सेक्सी !उसने कहा- खुश नहीं, बहुत खुश…!फिर मैं अपने हॉस्टल आ गया और अपनी पढ़ाई करने लगा, क्यूंकि अगले महीने में एक्जाम्स थे, लेकिन इन दिनों में भी मेरी मुलाकात एक आंटी से हुई।जानने के लिए मेरी अगले कहानी का इंतजार करें और मेरी यह कहानी आपको कैसी लगी?.

भाभी सेक्स हिंदी वीडियो

बीएफ दीजिए बीएफ दीजिए: नखरे मत कर !” कह कर उसने मुझे दबोच लिया और जगह-जगह मुझे चूमने लग गया जिसकी वजह से में भी मचलने लगा।मेरी गांड फड़फड़ाने लगी, मैंने भी उसको कस कर जकड़ लिया, उससे बेल की तरह लिपटने लगा।यह देख-देख कर उसका दिमाग सठिया गया और उसने मुझे छोड़ सीधे लिटाया।बोला- साली कैसे चुदना चाहेगी !हाय कमबख्त.इसके पिता रेलवे विभाग में काम करते थे, लड़का देखने में सुन्दर था उसके पिता ने मुझे पसंद कर लिया और बगैर दहेज़ के शादी के लिए हाँ कर दी.